प्रीति – कथा (नरेन्द्र कोहली)

Preeti-Katha-Narendra-Kohli-925668152-435994-1

इन्टरनेट के इस दौर से पहले एक दौर था जब ज़िन्दगी कि वजह से लोग वाकई में बिछड़ जाते थे और उनसे दुबारा मिल पाने कि गुंजाइश काफी कम होती थी, और अगर कभी मुलाक़ात हो भी जाये तो वो किस्मत की बात होती थी | प्रीति-कथा में दो लोग …

Darya-Ganj-Book-Bazaar

Long Live the Book Bazaar

Come Sunday, and there is this stretch in old Delhi that transforms into book lovers’ paradise. From Asaf Ali Road to the …

images (1)

Book-O-Holic’s Delight…

Ever thought… What if the world was made of books, with poems written on walls so that anyone and everyone can read …